Update

6/random/ticker-posts

Header Ads Widget

आज का विचार-जितना कठिन संघर्ष होगा, जीत उतनी ही शानदार होगी।

विश्व शांति के मसीहा थे निरंकारी बाबा हरदेव सिंह

समर्पण दिवस" ​​पर विशेष
बाबा हरदेव सिंह जी एक ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने "शांतिपूर्ण विश्व" की स्थापना की कलपना की थी  । उन्होंने  संत  निरंकारी मिशन के सन्देश को विश्वभर में फैलाने के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया। 
बाबा हरदेव सिंह जी महाराज, जिन्होंने दुनिया भर में मानवता,शांति और सद्भाव का प्रसार करके "शांतिपूर्ण दुनिया" की दृष्टि का एहसास किया, सभी मनुष्यों को आजीवन प्यार और शांति  का पाठ पढ़ाया ,और पृथ्वी पर हर इंसान को जागरूकता प्रदान की। उनका मानना था कि केवल प्रभु परमात्मा को जानकर ही विश्व में एक आदर्श समाज की स्थापना की जा सकती है। जीवन के अंतिम सांस तक बाबा जी इस पवित्र उद्देश्य की पूर्ति के लिए प्रयत्नशील रहे।
बाबा जी के संदेशों "रक्त नसों में बहना चाहिए,  नालिओं में नहीं ", "धर्म जोड़ता है तोड़ता नहीं", "एक को जानों , एक को मानो, एक हो जाओ "में सदैव मानवता के प्रति प्यार झलकता है । सतगुरु बाबा हरदेव सिंह जी निरंकारी मिशन के चौथे प्रमुख (सतगुरु) थे, जो प्रेम, स्नेह, विनम्रता, सहिष्णुता, दिव्य ज्ञान आदि का संदेश देते थे। उनका जन्म 23 फरवरी 1954 को दिल्ली में पिता गुरबचन सिंह (बाबा जी) और माँ कुलवंत कौर (राजमाता जी) के यहाँ हुआ था। वह चार बहनों के  इकलौते  भाई थे। उन्होंने नवंबर 1975 में सविंदर कौर से शादी की थी जो गुरमुख सिंह जी और  मदन कौर जी ( फर्रुखाबाद, उत्तर प्रदेश) की बेटी थीं, बाबा जी की तीन बेटियाँ समता, रेणुका और सुदीक्षा जी (निरंकारी मिशन की वर्तमान प्रमुख गुरू) थीं। बाबा जी ने  अपनी प्राथमिक शिक्षा  राजौरी पब्लिक स्कूल में हासिल की, 1963 में पटियाला (पंजाब) के यादविन्द्रा  पब्लिक स्कूल में दाखिला लिया ,जहाँ से उन्होंने 1969 में मैट्रिक किया। उन्होंने अपनी उच्च शिक्षा दिल्ली विश्वविद्यालय से प्राप्त की। कम उम्र से ही उन्होंने अपने पिता सतगुरु बाबा गुरबचन सिंह जी महाराज और माता कुलवंत कौर (राजमाता जी) के साथ देश और विदेश में आध्यात्मिक यात्राएँ शुरू कर दी थीं।1971 में, वह संत निरंकारी सेवादल में शामिल हो गए और खाकी वर्दी पहनकर सेवा में रुचि लेने लगे।


24 अप्रैल, 1980 को मिशन के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ आया जब बाबा गुरबचन सिंह जी को मानवता विरोधी लोगों ने शहीद कर दिया। इतने बड़े संकट के समय में उन्होंने मिशन की कमान संभाली। अपने पहले ही प्रवचनों में, उन्होंने नफरत को त्यागने और दुनिया भर में प्रेम और भाईचारे की भावना को फैलाने का प्रयास करने के लिए संगतों को बुलाया।युवाओं को अच्छे कामों के लिए प्रेरित करने के लिए, उन्होंने रक्तदान शिविर शुरू किया और इंसानों को इंसानों के करीब लाने का नारा दिया, "रक्त नसों में बहना चाहिए न कि नालियों में"। हर साल 24 अप्रैल, 1986 से पूरे भारत के साथ-साथ दुनिया के कई देशों में खूनदान शिविर आयोजित किए जाते हैं और यह प्रक्रिया अलग-अलग जगहों पर पूरे साल चलती रहती है। निरंकारी मिशन द्वारा रक्तदान का विश्व रिकॉर्ड इतिहास में दर्ज है। बाबा जी ने  36 साल तक मिशन का नेतृत्व किया। मानवता  के लिए जो कर्म उन्होंने किये  किए, मनुष्य को मनुष्य के करीब लाने के लिए, दुनिया से वैर ,नफरत, मिटाने के लिए उन्हें  भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने जातिवाद  का उन्मूलन किया, उन्हें ड्रग्स, दहेज से दूर रहने के लिए प्रेरित किया और अपनी  शिक्षाओं के माध्यम से समाज को सभी बुराइयों  से छुटकारा दिलाने  की कोशिश की।
उन्होंने अपने अनुयायियों को पूरे देश में 'ग्लोबल वार्मिंग' के खतरे से निपटने के लिए पूरे भारत में पेड़ लगाने का निर्देश दिया और प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान में भी भारी योगदान दिया। 23  फरवरी, 2 अक्टूबर और कई अन्य अवसरों पर उनके  अनुयायियों ने देश को स्वच्छ रखने के लिए और सरकारी अस्पतालों, स्कूलों, रेलवे स्टेशनों आदि पर सड़कों पर गंदगी को साफ किया जाता है और उपयुक्त स्थानों पर पेड़ लगाए जाते हैं , जब किसी भी प्रकार की प्राकृतिक आपदा, भूकंप, सुनामी, बाढ़ आदि आई, तब भी उनके अनुयायियों ने मानवता की भलाई के लिए दिन-रात काम किया।
पूरे विश्व में कोरोना महामारी के कारण चल रहे तालाबंदी के अवसर पर भी मिशन के मौजूदा सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज के आदेशों के अनुसार, निरंकारी मिशन के सभी सेवक पूरे भारत में जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं।निरंकारी मिशन ने प्रधानमंत्री राहत कोष  में केंद्र सरकार को 5 करोड़ रु और  विभिन्न स्थानों पर जरूरतमंदों को राशन, लंगर, मास्क, सैनिटाइजर, पीपीई किट आदि दान किए जा रहे हैं।
उनका व्यक्तित्व पूरी दुनिया में इस कदर छाया हुआ था कि उन्हें इंग्लैंड में 27 यूरोपीय देशों में संसद द्वारा सम्मानित किया गया था और उन्हें विशेष रूप से संयुक्त राष्ट्र (यूएनओ) के मुख्य सलाहकार के रूप में भी नियुक्त किया गया था। दुनिया की कई सरकारों और संस्थानों द्वारा बाबा जी को  शांतिदूत' की उपाधि से सम्मानित किया गया था।अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार दिवस के अवसर पर, 10 दिसंबर, 2016 को अखिल भारतीय मानवाधिकार परिषद ने ब्रह्मलीन  निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी महाराज को एपीजे अब्दुल कलाम  विश्व शांति पुरस्कार -2016 से सम्मानित किया गया था। इसी प्रकार, निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी महाराज को यूनाइटेड स्टेट्स में मानवता के सर्वश्रेष्ठ और विश्व स्तर के विकास के लिए समर्पित संगठन, वी केयर फॉर ह्यूमैनिटी द्वारा सर्वश्रेष्ठ आध्यात्मिक विभूति पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
उन्होंने अपना पूरा जीवन मानवता के लिए समर्पित किया, पूरे विश्व में  शांति और भाईचारे की स्थापना की।  निरंकारी इंटरनेशनल समागमों  की शुरुआत करके, उन्होंने पूरी दुनिया में आध्यात्मिक क्रांति लाई। एकात्व,मानवता जैसे नवीनतम विषयों पर अपने बहुमूल्य विचारों के साथ पूरी मानवता को सूत्र में पिरोने का प्रयास किया। उन्होंने 36 वर्षों तक दिन-रात मानवता की सेवा की और कभी भी अपने सुख, आराम और परिवार की परवाह नहीं की।। 13 मई 2016 को बाबा हरदेव सिंह जी महाराज की मृत्यु के बाद, सतगुरु माता सविंदर हरदेव जी महाराज निरंकारी मिशन के पांचवें प्रमुख बने। उन्होंने 16 जुलाई 2018 को अपनी सबसे छोटी बेटी सुदीक्षा जी को निरंकारी मिशन की गुरुगद्दी  सौंपने की घोषणा की और 17 जुलाई 2018 को लाखों लोगों की मौजूदगी में  बहन सुदीक्षा जी को गुरु मरियदा के अनुसार  गुरुगद्दी  सौंप दी। अब माता सुदीक्षा जी महाराज निरंकारी मिशन के छठे सतगुरु के रूप में सेवा कर रहे हैं। 
आजकल जब हर तरफ वैर ,नफरत, अलगाववाद, आतंकवाद, घातक युद्ध के बादल चारों ओर स्पष्ट रूप से दिखाई देते हैं, बाबा  हरदेव सिंह जी  का प्यार, सहिष्णुता, शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय संदेश बहुत सार्थक और लाभदायक हैं। आज सभी प्रकार की दीवारों को तोड़ने और ऐसे पुलों के निर्माण की आवश्यकता है  जो मानवता के लिए अमूल्य हो सकते  है।  13 मई 2020 को समर्पण दिवस के अवसर पर, उनके जीवन पर उनकी शिक्षाओं से प्रेरणा लेकर जीवन को सफल बनाने का संदेश दिया जा रहा है। हालाँकि बाबा हरदेव सिंह जी महाराज शरीर रूप में आज हमारे साथ नहीं हैं, लेकिन उनकी सकारात्मक शिक्षाएँ हमेशा  मानव जाति का मार्गदर्शन करती रहेंगी।

प्रमोद धीर 
जैतो 

Post a Comment

0 Comments